सिद्धार्थनगर : कस्बा स्थित भारतीय स्टेट बैंक की शाखा में लगातार 13वें दिन भी कैश संकट बना रहा। मंगलवार को दो पेट्रोलपंपों द्वारा चार लाख रुपए जमा कराए गए, उसी से उपभोक्ताओं का भुगतान किया गया। वह रुपए भी एक घंटे के अंदर खत्म हो गए। फिर ग्राहकों के हाथ केवल मायूसी ही लगी।

बहुत सारे उपभोक्ता जिसमें महिलाओं की संख्या उल्लेखनीय रही, काफी देर तक जमीन पर बैठकर कैश आने का इंतजार किए, फिर निराश घर लौट गए। लगन के मौसम में बैंक के कैशलेस होने से शादी-विवाह जैसे कार्यक्रम संपन्न कराने में लोगों के पसीने छूट जा रहे हैं। यही नहीं क्षेत्र के भवानीगंज, रठैना, बयारा, बढ़नी चाफा, पिरैला स्थित ग्राहक सेवा केंद्रों पर भी कैश समस्या निरंतर बनी हुई है।
 बैंक पर मिले उपभोक्ताओं में जंगलीपुर निवासी केशव पाल पांच दिनों से 40 हजार रुपये निकालने के लिए, स्वामी दीन लड़की की शादी के लिए 30 हजार रुपये के लिए चार दिनों से चक्कर लगा रहे हैं। मनिराम हिसामुद्दीनपुर 20 हजार रुपये उधार लिए थे, उसी को अदा करने के लिए, श्यामबाबू खानतारा रिश्तेदार के लड़की की शादी में 30 हजार रुपये देने के लिए, अलीमुन्निशा गहिरौला 4000 रुपये दवा के लिए, गिरधारी सोनबरसा 5000 रुपये गेहूं कटाई देने के लिए, गुनई बायताल 8000 रुपये नातिन की शादी में सामान लेने के लिए, रामपियारे हज्जीडीह 30 हजार नातिन की शादी, बेच राम पुरैना 35 हजार रुपए शादी की खरीदारी करने के लिए, संते पुरैना 35000 रुपए लड़की की शादी के लिए आदि लगातार बैंकों का चक्कर लगा रहे हैं, मगर निराशा होकर लौटना पड़ रहा है। बैंक मैनेजर तरुण ¨सह ने बताया कि हमारे यहां दो पेट्रोल पंपों के चार लाख रुपए आए थे, वही उपभोक्ताओं में कम से कम 10 हजार तक दिए गए। आधा घंटे में वह रुपया खत्म हो गया, जिसके कारण भुगतान भी ठप हो गया।
औराताल बैंक पर भी भुगतान के लिए जूझे ग्राहक
औराताल : एसबीआइ औराताल में भी पिछले दो सप्ताह से कैश संकट चला आ रहा है। मंगलवार सुबह से ही भुगतान प्रक्रिया बाधित रही, क्योंकि बैंक में कैश था ही नहीं। इधर कई दिनों से चेस्ट से रुपया मिल नहीं रहा है। व्यापारियों द्वारा जो कैश जमा किया जाता है, वहीं थोड़ा-बहुत सहारा बन रहा है। परंतु आज पूरे दिन ग्राहकों को मायूस होना पड़ा। औराताल निवासी कबूतरा देवी के यहां 23 अप्रैल को शादी है, जेवर आदि सामान खरीदना है, लेकिन बैंक से पैसा नहीं निकल रहा है। कैथवलिया निवासी कलावती, परसा हुसैन निवासी बैस मोहम्मद आदि बहुत सारे ऐसे जरूरतमंद मिले, जिन्हें कैश की नितांत आवश्यकता है, मगर इधर कई दिनों से उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ रहा है। प्रभारी शाखा प्रबंधक रजनीश कुमार ने कहा कि बैंक को पांच अप्रैल से कैश नहीं मिला है। जो थोड़ा बहुत जमा होता है, उसी से भुगतान किया जाता है। सोमवार को कुछ जमा हुआ था, वह तत्काल बांट दिया गया। कैश कहीं से आएगा, तभी उसका वितरण संभव हो सकेगा।

By – Riyaz Ahmad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here