सिद्धार्थनगर में अवैध कब्जा करने के मामले में 6 मृतकों सहित 91 लोगों के खिलाफ मुकदमा

0

फजले रसूल

संवाददाता

शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर 29 मार्च, 

बानगंगा बैराज की जमीन पर लगभग 35 सालों से रोजी रोटी कर रहे सहायक अभियंता की तहरीर पर 91 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज  कराया गया है।

शोहरतगढ़ थाना में स्थित  बानगंगा बैराज की सार्वजनिक जमीन पर लगभग 35 वर्षो से रोजी रोटी कर रहे सिंचाई विभाग के तरफ से 91 लोगों को नोटिस देने के बाद उससे अपना निर्माण ना हटाने पर उनके विरुद्ध समुचित धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है, जिसकी सूचना पर लोग परेशान हो गये है।

यह भी पढ़ें: सपा- बसपा गठबंधन को योगी ने बताया सर्कस के शेर

जानकारी के मुताबिक सिंचाई विभाग के गंगा बैराज पर लगभग 35 सालों से लोगों का कब्जा है और जानकार बताते हैं कि किसी-किसी का वहां पट्टा भी है। किन्तु मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सिद्धार्थनगर कार्यक्रम पर विभाग ने कड़ा रूख अख्तियार करते हुए उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही कर दी है। वैसे जानकार यह भी बताते हैं कि उन्हीं 91 लोगों का जनपद महाराजगंज में मुकदमा भी चल रहा है किंतु मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सिद्धार्थनगर आगमन को लेकर बड़ी कार्रवाई की गई। वैसे विभाग से एक बड़ी चूक भी हुई कि जिन लोगों का मुकदमा पूर्व में महाराजगंज जनपद में चल रहा था उन्हीं लोगों का मुकदमा लिखने के लिए शोहतरगढ़ थाने में तहरीर दी गयी फलस्वरूप बिना जांच के विभाग ने उन लोगों के बिरूद्ध मुकदमा लिखवा दिया,जिसमें 6 मृतकों को भी अभियुक्त बनाया गया। अब सवाल यह है कि जिन लोगों की मृत्यु हो गई है वह क्या कब्र से आकर मुकदमा लड़ेगें। फिलहाल क्रमांक 49 के पारसनाथ यादव पुत्र त्रिभुवन द्वारा सार्वजनिक सम्पत्ति से अवैध निर्माण भी हटा लेने के बाद भी उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा लिया गया है।

यह भी पढ़ें: PAN को AADHAR से लिंक कराने की बढ़ी समयसीमा

जानकारों के अनुसार जगन्नाथ पुत्र रेगई निवासी नीबी पोस्ट महथा बाजार, जसई पुत्र सुकई निवासी ग्राम झरूआ पोस्ट महथा बाजार, गौरी शंकर पुत्र रामसमुझ निवासी ग्राम झरुआ, हरिराम पुत्र भगौती निवासी ग्राम गोल्हौरा , राममिलन पुत्र झिनकू निवासी ग्राम नीबी, तुलसीराम पुत्र गनपति निवासी ग्राम नीबी बाजार थाना उपरोक्त शोहरतगढ़ की मृतक होने की बात बताई जा रही है।

एक बात तो स्पष्ट हो गई की कहीं ना कहीं जिम्मेदार ही जिम्मेदार है जब बाणगंगा बैराज पर अतिक्रमण किया जा रहा था तो विभाग ने पहले नोटिस के साथ आवश्यक कार्यवाही क्यों नही की। क्या सिंचाई विभाग द्वारा जिन लोगों पर मुकदमा पंजीकृत करवाया गया क्या वे लोग कब्र से आकर अपना मुकदमा लड़ेंगे। यानी कि विभाग को यह ही नहीं पता की किन-किन लोगों ने सिंचाई विभाग की जमीन पर कब्जा किया है? नहीं तो इतनी बड़ी चूक नहीं होती।

उक्त के संबंध में थाना प्रभारी अरविन्द कुमार मिश्र ने बताया कि सहायक अभियंता अरुणेश पांडे की तहरीर पर अपराध संख्या 45 पर सार्वजनिक संपत्ति नुकसान निवारण अधिनियम अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और कार्यवाही हेतु चतुर्थ ड्रेनेज खण्ड सिंचाई विभाग सिद्धार्थनगर रिर्पोट प्रेषित कर दिया है।

 

  • : Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here