मुशायरों की रूह माने जाने वाले आलमी शोहरत याफ्ता शायर अनवर जलालपुरी ने ‘राहरौ से रहनुमा तक’, ‘उर्दू शायरी में गीतांजलि’ तथा भगवद्गीता के उर्दू संस्करण ‘उर्दू शायरी में गीता’ पुस्तकें लिखीं जिन्हें बेहद सराहा गया था। उन्होंने ‘अकबर द ग्रेट’ धारावाहिक के संवाद भी लिखे थे।

भले ही वे आज इस दुनिया में नहीं है मगर उनकी लिखी गजलें लोगो के लिए यादगार रहेगी और लोग उनको पढ़ते रहेंगे,

चाँदनी में रात भर सारा जहाँ अच्छा लगा
धूप जब फैली तो अपना ही मकाँ अच्छा लगा

अब तो ये एहसास भी बाक़ी नहीं है दोस्तों
किस जगह हम मुज़महिल थे और कहाँ अच्छा लगा

आके अब ठहरे हुये पानी से दिलचस्पी हुई
एक मुद्दत तक हमें आबे रवाँ अच्छा लगा

लुट गये जब रास्ते में जाके तब आँखे खुली
पहले तो एख़लाक़-ए-मीर कारवाँ अच्छा लगा

जब हक़ीक़त सामने आई तो हैरत में पड़े
मुद्दतों हम को भी हुस्ने दास्ताँ अच्छा लगा ||

BY – FAJLE RASOOL

  • : Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array, Array

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here